Skip to content

kaho to laut jātei.n hai.n (कहो तो लौट जातें हैं…)

सोमवार, फ़रवरी 14, 2011
Shajar – a Willow Tree

Shajar – a Willow Tree

अभी तो बात लम्हों तक है, सालों तक नहीं आई|
अभी मुस्कानों की नौबत भी नालों तक नहीं आई||
अभी तो कोई मज़बूरी ख़यालों तक नहीं आई|
अभी तो गर्द पैरों तक है, बाँलों तक नहीं आई||
कहो तो लौट जातें हैं…
चलो एक फैसला करने शजर की और जाते हैं|

अभी काजल की डोरी सुर्ख़ गालों तक नहीं आई|
ज़बाँ दाँतों तलक है, ज़हर प्यालों तक नहीं आई||
अभी तो मस्क-ए-कस्तूरी ग़ज़ालों तलक नहीं आई|
अभी रुदाद-ए-बे-उन्वाँ हमारे दर्मियाँ है… दुनियावालों तक नहीं आई||
कहो तो लौट जातें हैं…

अभी नज़्दीक है घर, और मंजिल दूर है अपनी,
मुबादा नार हो जाए, ये हस्ती नूर है अपनी|
कहो तो लौट जातें हैं…

ये रस्ता प्यार का रस्ता;
रसन का, दार का रस्ता… बहुत दुष्वार है जाना|
[के] इस रस्ते का हर ज़र्रा भी इक कौह्सार है जाना||
कहो तो लौट जातें हैं…

मेरे बारे न कुछ सोचो…
[मुझे तो साथ तुम्हारे अमर होने की हसरत है|]
मुझे तय करना आता है… रसन का, दार का रस्ता…
ये असाबों भरा रस्ता… ये अंधी घार का रस्ता|
तुम्हारा नर्म-ओ-नाज़ुक हाथ हो अगर मेरे हाथों में,
तो मैं समझूँ के जैसे दो जहाँ है मेरी मुट्ठी में||
तुम्हारा कुर्ब हो तो मुश्किलें काफूर हो जाएँ|
ये अन्धें और काले रास्तें पुर-नूर हो जाएँ||
तुम्हारे गेसुओं के छावँ मिल जाए तो सूरज से उलझ्ना बात ही क्या है|
उठा लो अपना साया तो मेरी औक़ात ही क्या है||

मेरे बारे न कुछ सोचो…
तुम अपनी बात बतलाओ|
कहो तो चलते रहतें हैं…
कहो तो लौट जातें हैं…
कहो तो लौट जातें हैं|

(वसी शाह)

abhi to baat lamho.n tak hai, saalo.n tak nahi.n āee
abhi muskāno.n ki naubat bhi nālo.n tak nahi.n āee
abhi to koi majburii khayālo.n tak nahi āee
abhi to gard pairo.n tak hai, bālo.n tak nahi āee
kaho to laut jātei.n hai.n…
chalo ek faisalā karne shajar ki aur jāte hai.n

abhi kājal ki dorii surKh gālo.n tak nahi āee
zabā.n dā.nto.n talaq hai, zehar pyālo.n taq nahi āee
abhi to musk-e-kasturi gazālo.n talaq nahi.n āee
abhi rudād-e-be-unvā.n hamāre darmiyā.n hai… duniyāwālo.n tak nahi.n āee
kaho to laut jātei.n hai.n…

abhi nazdiik hai ghar, aur manzil duur hai apni,
mubādā nār ho jāye, ye hasti nuur hai apni
kaho to laut jātei.n hai.n…

ye rastā pyār kā rastā; rasan kā, dār kā rastā… bahut dushvār hai jānā
[ke] is raste ka har zarrā bhi ik kohsār hai jānā
kaho to laut jātei.n hai.n…

mere bāre na kuchh socho…
mujhe tay karnā ātā hai… rasan kā, dār kā rastā…
ye asābo.n bharā rastā, ye andhi ghār kā rastā
tumhārā narm-o-nāzuk hāth ho agar mere hāto.n mei.n,
to mai.n samjhu.n ke jaise do jahā.n hai meri mutthi mei.n
tumhārā kurb ho to mushkilei.n kāfur ho jāyei.n
ye andhei.n aur kāle rāstei.n pur-nur ho jāyei.n

tumhāre gesuo.n ke chhānv mil jāye to suraj se ulajhnā bāt hi kyā hai
uthhā lo apnā sāyā to meri auqāt ki kyā hai

mere bāre na kuchh socho…
tum apni bāt batlāo
kaho to chalet rehtei.n hai.n…
kaho to laut jātei.n hai.n…
kaho to laut jātei.n hai.n…
(Wasi Shah)

(शब्दकोष) उर्दू – हिंदी – अंग्रेजी
नौबत – : chance, opportunity
नालों – : sorrow, lamentation
गर्द – : triviality, trifle
शजर – : a tree
सुर्ख़ – : colour red
मस्क-ए-कस्तूरी – : the scent/odour of a male musk deer
ग़ज़ालों – : deers
रुदाद-ए-बे-उन्वाँ – : a tale without a form/title
मुबादा नार – : lest we kindle the fire
रसन – : noose, strings
दार – : gallows
दुष्वार – : arduous, difficult
ज़र्रा – : particle, soupçon
कौह्सार//कोहसर – : mountain
असाबों काशीबों – : restive jittery
अंधी घार – : lair, den
कुर्ब – : affectionate closeness, togetherness
काफूर – : camphor
पुर-नूर – : filled with light, brightly lit, radiant
पोशीदा – : hidden

Advertisements
No comments yet

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: